दैनिक प्रार्थना

हमारे मन में सबके प्रति प्रेम, सहानुभूति, मित्रता और शांतिपूर्वक साथ रहने का भाव हो.

Tuesday, October 14, 2008

हिन्दुओं को कर्णाटक में गुस्सा क्यों आया

अगर आप जानना चाहते हें कि हिन्दुओं को कर्णाटक में गुस्सा क्यों आया तो इस लिंक पर जाइए -

हिन्दुओं को गुस्सा क्यों आया?

2 comments:

Anonymous said...

http://neeshooalld.blogspot.com/2008/10/blog-post_14.html

Suresh Chandra Gupta said...

बेनामी जी, आपके द्वारा दी गई लिंक पर मैं गया और अपनी टिपण्णी भी दर्ज की. इस के लिए धन्यवाद.
अगर अपना परिचय भी देते तो बेहतर होता.