दैनिक प्रार्थना

हमारे मन में सबके प्रति प्रेम, सहानुभूति, मित्रता और शांतिपूर्वक साथ रहने का भाव हो.

Friday, October 24, 2008

अल्लाह, कृपया पधारें हमारे यहाँ इस दीपावली पर

चलो दीपावली पर,
इनवाईट करें अल्लाह को,
और देखें, 
हमारे ईश्वर से उनकी कैसी पटती है!

6 comments:

seema gupta said...

चलो दीपावली पर,
इनवाईट करें अल्लाह को,
और देखें,
हमारे ईश्वर से उनकी कैसी पटती है!

" kash isko pdh kr inssano kee ankhen khulen..."

Regards

SHUAIB said...

अल्लाह और ईश्वर दोनों मिलकर पटाखे जलाएंगे और क्या?

फ़िरदौस ख़ान said...

बहुत ख़ूब...

COMMON MAN said...

kaash ki log ye samajh paate ki dono ek hi hain

Dharmayan said...

allah ko hum bula to rahe hain lekin wo to kewal bakrid me hi aate hain yadi wo aate to fir hindu hindu aur musalman musalman kyon hota ?

राज भाटिय़ा said...

अजी जरुर आयेगे, बहुत सुन्दर विचार
धन्यवाद