दैनिक प्रार्थना

हमारे मन में सबके प्रति प्रेम, सहानुभूति, मित्रता और शांतिपूर्वक साथ रहने का भाव हो.

Friday, September 12, 2008

रमजान की मुबारकवाद

4 comments:

फ़िरदौस ख़ान said...

अलहम्दु लिल्लाह...बहुत ख़ूब...

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

Aapko bhee mubarak ho.

Shastri said...

शुक्रिया सुरेश जी !!



-- शास्त्री जे सी फिलिप

-- समय पर प्रोत्साहन मिले तो मिट्टी का घरोंदा भी आसमान छू सकता है. कृपया रोज कम से कम 10 हिन्दी चिट्ठों पर टिप्पणी कर उनको प्रोत्साहित करें!! (सारथी: http://www.Sarathi.info)

राज भाटिय़ा said...

मेरी तरफ़ से भी सभी को रमजान की मुबारकवाद
धन्यवाद